बेशर्म का पौधे

बेशर्म का पौधे की जानकारी: इतिहास, पहचान, प्रकार, उपयोग

By Sumati Surya

“बेशर्म का पौधा” भारतीय संस्कृति और आयुर्वेद में अपनी औषधीय गुणों के लिए प्रसिद्ध है। इसके अनोखे नाम ने इसे लोकप्रियता दिलाई है, लेकिन इसके पीछे इसकी अनेक गुणधर्म हैं जो इसे अद्वितीय बनाते हैं। यह पौधा सूखे मौसम में भी अच्छा प्रदर्शन करता है और उसकी पत्तियों और फूलों का उपयोग विभिन्न आयुर्वेदिक उपायों में किया जाता है।

यदि आप इससे संबंधित और विवरण चाहते हैं, तो हमारा अगला लेख “कुबेराक्षी का पौधा” भी पढ़ें, जिसमें इस अद्वितीय पौधे के अधिक गुणों और उसके उपयोगों का वर्णन है। इस प्रकार, बेशर्म पौधा न केवल अपने नाम के लिए ही नहीं बल्कि अपनी अनेक गुणधर्मों के लिए भी जाना जाता है।

Contents

बेशर्म का पौधा क्या है (what is Shameplant)

what is Shameplant

“बेशर्म का पौधा” एक अद्वितीय और आश्चर्यजनक पौधा है जो अपने नाम से ही ज्यादा प्रसिद्ध है। यह पौधा भारतीय संस्कृति में अपने औषधीय गुणों के लिए माना जाता है। इस पौधे की पत्तियाँ हरी-हरी होती हैं और फूल रंगीन होते हैं, जिससे यह देखने में भी बहुत सुंदर है।

इस पौधे के औषधीय गुण इसे खास बनाते हैं। इसे त्वचा संबंधित समस्याओं, जैसे की चकत्ता, फोड़े-फुंसी और अन्य त्वचा रोगों में उपयोग किया जाता है। बेशर्म पौधा आयुर्वेद में भी उपयोग किया जाता है।

इसके अलावा, इस पौधे का नाम ‘बेशर्म’ क्यों है, इस पर भी कई कहानियाँ हैं। कुछ लोग मानते हैं कि इसके फूल और पत्तियों की अनोखी खासियत के कारण इसे ऐसा नाम दिया गया। यह पौधा न केवल अपने नाम और सुंदरता के लिए जाना जाता है, बल्कि इसके अनेक औषधीय गुणों के लिए भी प्रसिद्ध है।

बेशर्म के पौधे का इतिहास (History of Shameplant)

History of Shameplant

बेशर्म का पौधा अपने अनूठे नाम और अद्वितीय गुणों के लिए प्रसिद्ध है। इस पौधे का इतिहास भारतीय संस्कृति में गहरा है। प्राचीन काल से ही इसे औषधीय और धार्मिक उपयोगों में लाया जाता था।

संस्कृत में इसे ‘लज्जालु’ कहा जाता है, जिसका अर्थ है ‘लाजवंती’ या ‘शरमीली’। जब इस पौधे को छूते हैं, तो इसकी पत्तियां सिकुड़ जाती हैं, जैसे किसी ने इसे शरम से सिकुड़ा दिया हो।

इसके अलावा, बेशर्म पौधा आयुर्वेदिक चिकित्सा में भी उपयोग किया जाता है। इसके विभिन्न हिस्सों में सेवनीय और औषधीय गुण पाए जाते हैं, जिससे यह कई रोगों का इलाज करने में मददगार साबित होता है।

ऐतिहासिक रूप से, यह पौधा सामाजिक और सांस्कृतिक अनुष्ठानों में भी उपयोग होता था, जैसे कि पूजा और अन्य धार्मिक गतिविधियों में। इस पौधे के इतिहास और महत्व को जानकर हमें इसकी अद्वितीयता और महत्व का अहसास होता है।

बेशर्म का पौधे की पहचान (Identification of Shameplant)

Identification of Shameplant

बेशर्म, जिसे विज्ञानिक भाषा में ‘मिमोसा पुदिका’ कहा जाता है, एक अद्वितीय पौधा है जिसे आसानी से इसके विशेष गुणों से पहचाना जा सकता है।

पत्तियों की प्रतिक्रिया: इस पौधे की सबसे विशेष बात यह है कि जब आप इसे छूते हैं या जब इस पर पानी डालते हैं, तो इसकी पत्तियां तुरंत सिकुड़ जाती हैं। इसकी पत्तियों की यह विशेष प्रतिक्रिया इसे अन्य पौधों से अलग बनाती है।

आकार और रंग: बेशर्म की पत्तियां हरी रंग की होती हैं और यह फूल भी उत्पन्न करता है, जो गुलाबी या सफेद रंग के होते हैं।

वृद्धि: यह ज्यादातर गर्म और नम जलवायु में अच्छी तरह से बढ़ता है। यह जमीन में फैलाव दिखाने वाला पौधा है और इसकी ऊँचाई ४५ सेमी तक हो सकती है।

फूल: बेशर्म के फूल छोटे होते हैं और आमतौर पर सुबह में खिलते हैं।

फल और बीज: फूलों के बाद, इस पौधे पर छोटे, हरे रंग के फल भी उत्पन्न होते हैं जिनमें बीज होते हैं।

यह पौधा अपने अनूठे गुणों के लिए प्रसिद्ध है और यह सबसे अधिक ध्यान आकर्षित करता है जब इसकी पत्तियां छूने पर सिकुड़ जाती हैं। अगर आप इसे अपने बगीचे में लगाना चाहते हैं, तो इसका ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। अधिक जानकारी के लिए, हमारे द्वारा लिखे गए “कुबेराक्षी का पौधा” लेख को भी पढ़ें।

बेशर्म का पौधा के प्रकार (Types of Shameplant)

“बेशर्म” पौधा अपनी अद्वितीयता के लिए प्रसिद्ध है, जैसा कि जब इसे छूआ जाता है, तो इसकी पत्तियां सिकुड़ जाती हैं। यह जब भी हो, यह दर्शकों को अच्छा लगता है। हालांकि, इस अद्वितीय पौधे के कई प्रकार भी हैं। चलिए इन प्रकारों के बारे में विस्तार से जानते हैं:

1. आम बेशर्म (Mimosa pudica)

Mimosa pudica

यह सबसे आम प्रकार है जिसे आमतौर पर बाग़ में देखा जाता है। इसकी छोटी छोटी हरी पत्तियां होती हैं जो छूने पर सिकुड़ जाती हैं। यह पौधा उन इलाकों में आम है जहां जलवायु उमसदार और गर्म होती है।

2. जंगली बेशर्म (Wild Shameplant)

Wild Shameplant

यह प्रकार जंगली इलाकों में पाया जाता है और यह अधिक मजबूत और ऊंचा होता है। इसकी पत्तियां भी बड़ी होती हैं और यह सूखे में भी अच्छी तरह से बढ़ता है।

3. हाउस प्लांट बेशर्म (Houseplant Shameplant)

Houseplant Shameplant

यह प्रकार कम पानी वाले इलाकों में बढ़ता है और यह घर के अंदर रखने के लिए आदर्श होता है। इसकी पत्तियां छोटी और गहरे हरे रंग की होती हैं।

4. उमसदार बेशर्म (Humid Shameplant)

Humid Shameplant

इस प्रकार का पौधा उमसदार जलवायु में बढ़ता है और इसकी पत्तियां आम बेशर्म से बड़ी होती हैं। यह पौधा अधिक पानी में अच्छा प्रदर्शन करता है।

5. डेजर्ट बेशर्म (Desert Shameplant)

Desert Shameplant

यह प्रकार सूखे इलाकों में बढ़ता है और इसकी पत्तियां बहुत मोटी और छोटी होती हैं। इसका रंग भी गहरा हरा नहीं होता है।

इन प्रकारों में से प्रत्येक का अपना अद्वितीयता है, लेकिन सभी में समानता है कि वे सभी अपनी पत्तियों की प्रतिक्रिया के लिए प्रसिद्ध हैं। आपके बाग़ में जो भी प्रकार हो, यह सुनिश्चित है कि यह आपको और आपके मेहमानों को प्रभावित करेगा।

अनेक भाषाओं में बेशर्म के नाम (Names of Shameplant in many languages)

‘बेशर्म’ पौधा अनेक देशों और संस्कृतियों में पाया जाता है, और इसका नाम भी विभिन्न भाषाओं में अलग-अलग है। यहाँ हम आपको इस पौधे के नाम की जानकारी देंगे जो विभिन्न प्रमुख भाषाओं में है:

Languages Names
हिंदी (Hindi)बेशर्म
अंग्रेजी (English)Sensitive Plant, Shame Plant
स्पेनिश (Spanish)Dormilona
फ्रेंच (French)Mimosa pudique
जर्मन (German)Schamhafte Sinnpflanze
इतालवी (Italian)Mimosa pudica
पुर्तगाली (Portuguese)Dormideira
रूसी (Russian)Стыдливая мимоза (Stydlyvaya mimosa)
चीनी (Chinese)害羞草 (Hàixiū cǎo)
जापानी (Japanese)ハジカミソウ (Hajikamisō)

यह अद्वितीय पौधा अपनी संवेदनशीलता और तुरंत पत्तियों को सिकुड़ने की क्षमता के लिए जाना जाता है। उपरोक्त भाषाओं में इसके नाम की जानकारी से आप समझ सकते हैं कि यह पौधा विश्व भर में कितना प्रसिद्ध है।

बेशर्म के पौधे कहा पाया जाता है (Shameplant are found in)

Shameplant are found in

‘बेशर्म’ या ‘सेंसिटिव प्लांट’ नाम से मशहूर इस पौधे की सबसे अद्वितीय बात इसकी पत्तियों की संवेदनशीलता है। जब इसे छूते हैं, तो यह अपनी पत्तियां सिकोड़ लेता है। अब सवाल आता है कि यह अद्वितीय पौधा कहाँ-कहाँ पाया जाता है?

बेशर्म पौधा मूल रूप से दक्षिण अमेरिका का है, लेकिन अब यह विश्वभर में उगाया जा रहा है। इस पौधे की खासियत है कि यह विभिन्न प्रकार की जलवायु में अच्छे से बढ़ सकता है। भारत में भी इस पौधे को आमतौर पर बाग-बगिचों, पार्कों और सड़क किनारे पाया जाता है। यह गर्मी में भी अच्छे से उगता है और इसकी देखभाल भी आसान होती है।

बेशर्म पौधा अपने अद्वितीय गुणों के कारण अनेक अन्य देशों में भी पॉपुलर है। जैसे कि थाईलैंड, मलेशिया, फिलीपींस और अन्य आसियाई देशों में। इसके अलावा, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में भी इसे उगाया जाता है।

इस पौधे के विभिन्न प्रकार भी होते हैं, जिसमें से प्रत्येक का अपना विशेष महत्व है। जहाँ कुछ प्रकार उनकी सुंदरता के लिए जाने जाते हैं, वहीं अन्य कुछ मेडिसिनल प्रॉपर्टीज के लिए। अगर आप भी अपने बाग-बगिचे में कुछ अलग और अद्वितीय चाहते हैं, तो बेशर्म पौधा एक श्रेष्ठ विकल्प हो सकता है।

बेशर्म के पौधे का उपयोग (use of Shameplant)

use of Shameplant

बेशर्म पौधा अपनी अद्वितीयता और संवेदनशील पत्तियों की वजह से लोकप्रिय है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसे सिर्फ सजावटी पौधा होने के अलावा अन्य उपयोगों के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है? आइए, जानते हैं बेशर्म पौधे के विभिन्न उपयोगों के बारे में।

औषधीय गुण: बेशर्म के पत्ते और बीज में औषधीय गुण होते हैं। यह पेट की समस्याओं, जैसे दस्त और अफरा, के इलाज में मदद करता है।

सजावटी पौधा: इसकी संवेदनशील पत्तियों की वजह से यह बाग-बगिचों और घरों में सजावटी पौधा के रूप में पॉपुलर है।

नकली चीर उत्पन्न करना: जब इस पौधे को छूते हैं, इसकी पत्तियां सिकुड़ जाती हैं। इसे शौकीन लोग अकेला या अन्य पौधों के साथ बाग में लगाते हैं, ताकि जब कोई इसे छूता है, तो यह चीर उत्पन्न करता है।

आध्यात्मिक उपयोग: कुछ सांस्कृतिक और पारंपरिक समुदायों में बेशर्म पौधे का आध्यात्मिक उपयोग भी होता है। इसे मंत्र और तंत्र में इस्तेमाल किया जाता है।

भूमि संरक्षण: यह पौधा मिट्टी को संरक्षित रखने में मदद करता है। इसकी जड़ें मिट्टी को मजबूती प्रदान करती हैं, जिससे भूमि का संरक्षण होता है।

प्रदूषण कम करने में मदद: बेशर्म पौधा वायुमंडलीय प्रदूषण को कम करने में भी मदद करता है। यह वायुमंडलीय गैसें जैसे कि कार्बन डायऑक्साइड को अपनाता है और ऑक्सीजन उत्पन्न करता है।

शिक्षा के लिए: बेशर्म पौधा बच्चों को प्राकृतिक जगत के चमत्कार समझाने के लिए एक आदर्श उदाहरण है। इसकी संवेदनशील पत्तियां छूने पर सिकुड़ जाने की प्रक्रिया बच्चों को प्राकृतिक जीवन के अद्वितीयता और चमत्कार समझाने में मदद करती है।

नकली चीर से मजा लेना: बहुत से लोग इस पौधे को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों को चौंकाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। जब किसी को पता न हो कि यह पौधा छूने पर सिकुड़ जाता है, तो उनका प्रतिक्रिया देखना मजेदार होता है।

मधुमक्खियों के लिए: बेशर्म पौधे के फूल मधुमक्खियों को आकर्षित करते हैं। इससे मधुमक्खियाँ अधिक शहद उत्पन्न करती हैं और पारिस्थितिकी तंत्र में संतुलन बना रहता है।

गायन और पशुओं के चारा के रूप में: कुछ स्थानों पर इस पौधे को पशुओं के चारा के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है।

आशा है कि आपको इस लेख से बेशर्म पौधे के विभिन्न उपयोगों के बारे में अधिक जानकारी मिली होगी और अब आप इसे अपने आस-पास और भी प्रभावी तरीके से इस्तेमाल कर सकेंगे।

बेशर्म के पौधे का फायदा (benefits of Shameplant)

benefits of Shameplant

बेशर्म पौधा अपने अद्वितीय नाम और संवेदनशील पत्तियों के लिए लोकप्रिय है। लेकिन इसके अलावा भी इस पौधे में कई अद्वितीय गुण और फायदे हैं जिन्हें हम अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं। आइए, जानते हैं बेशर्म पौधे के विभिन्न फायदों के बारे में।

औषधीय गुण: बेशर्म का पौधा आयुर्वेद में उसके औषधीय गुणों के लिए प्रशंसित किया जाता है। इसे पेट संबंधित समस्याओं, जैसे दस्त और अफरा, के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है।

आध्यात्मिक उपयोग: धार्मिक और तांत्रिक अनुष्ठानों में बेशर्म का पौधा इस्तेमाल होता है। इसे जादू और तंत्र के क्रियावलियों में भी इस्तेमाल किया जाता है।

भूमि संरक्षण: बेशर्म पौधे की जड़ें मजबूत होती हैं जो मिट्टी को संजोने में मदद करती हैं। इससे भूमि का संरक्षण होता है और मिट्टी की उपजाऊ प्रवृत्तियों में वृद्धि होती है।

अंतःस्तल शोभा: इस पौधे के संवेदनशील पत्ते और आकर्षक फूल घर या कार्यालय के अंदर शोभा बढ़ाने में मदद करते हैं। यह पौधा आपके घर के अंदर एक आकर्षक वातावरण तैयार करता है।

शिक्षा के लिए: जब बच्चे इस पौधे को छूते हैं और देखते हैं कि कैसे इसकी पत्तियां सिकुड़ जाती हैं, तो वे प्राकृतिक जगत के अद्वितीयता और चमत्कार समझते हैं। इससे बच्चों की प्राकृतिक जागरूकता बढ़ती है।

प्रदूषण नियंत्रण: बेशर्म पौधा वातावरण के प्रदूषण को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह कार्बन डायऑक्साइड को सोख लेता है और ऑक्सीजन उत्पन्न करता है।

जीवन को सांवारना: इस पौधे की हरी-भरी पत्तियां और सुंदर फूल जीवन में सुखशांति और आनंद प्रदान करते हैं।

मधुमक्खियों का आकर्षण: इस पौधे के फूल मधुमक्खियों को आकर्षित करते हैं। जिससे पर्यावरण में संतुलन बना रहता है।

चारा: कुछ स्थलों पर इस पौधे के पत्ते पशुओं के चारा के रूप में भी इस्तेमाल किए जाते हैं।

आशा है कि आपको इस लेख से बेशर्म पौधे के विभिन्न फायदों के बारे में जानकारी मिली होगी और आप इसे अपने आस-पास की सुंदरता और स्वास्थ्य के लिए इस्तेमाल कर सकेंगे।

बेशर्म के पौधे का नुकसान (Disadvantages of Shameplant)

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि प्रकृति में हर चीज़ का अपना महत्व और उपयोग है, ऐसा ही ‘बेशर्म’ पौधे के साथ भी है। यदि हम इसके फायदों की चर्चा करते हैं, तो उसके नुकसान भी होते हैं, जो हमें मालूम होने चाहिए। आइए, हम जानते हैं इसके नुकसानों के बारे में:

अधिक संवेदनशीलता: बेशर्म के पौधे की सबसे अधिक पहचान उसकी संवेदनशील पत्तियां हैं। लेकिन, यही पत्तियां कभी-कभी जलन या त्वचा की समस्याओं का कारण बन सकती हैं।

जीवन में असंतुलन: अधिक मात्रा में बेशर्म के पौधे का सेवन शरीर में हानिकारक प्रभाव डाल सकता है, जैसे पेट की परेशानी या ज्यादा पानी पीने की इच्छा।

जीवन में परेशानी: कई लोग इस पौधे के संपर्क में आने पर एलर्जी की समस्या का सामना करते हैं। इससे त्वचा पर लाली, खुजली या फोड़े-फुंसियां हो सकती हैं।

पशुओं के लिए हानिकारक: अगर पशु इस पौधे को खाते हैं, तो उसे जहरीला प्रभाव हो सकता है। यह पेट में दर्द, उलटी और दस्त जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है।

अन्य पौधों पर प्रभाव: बेशर्म पौधे के बढ़ते जाने से आसपास के पौधों को जगह और पोषण की कमी हो सकती है, जिससे वे सूख सकते हैं।

अधिक पानी की जरूरत: बेशर्म पौधा अधिक पानी की मांग करता है, जिससे जल संकट की स्थिति में समस्या हो सकती है।

प्रजनन में समस्या: इस पौधे के बीज कई जगहों पर अनवांछित तरीके से फैल सकते हैं, जिससे अन्य पौधों की वृद्धि में समस्या हो सकती है।

आखिरकार, हम यह कह सकते हैं कि जैसे-जैसे हम बेशर्म पौधे के फायदों को देखते हैं, उसी प्रकार इसके नुकसान भी होते हैं। इसलिए, इसे लगाने और इसका उपयोग करने से पहले सोच-समझकर कदम उठाना चाहिए।

बेशर्म के फूल की दवा (medicine of Shameplant flower)

बेशर्म, जिसे विज्ञानिक भाषा में ‘Mimosa pudica‘ कहा जाता है, भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाने वाला एक औषधीय पौधा है। इस पौधे के पत्ते और फूल के औषधीय गुणों की पहचान सदीयों से की जाती आ रही है।

खांसी और सांस की समस्याओं में: बेशर्म के फूलों का रस खांसी और अन्य श्वासन संबंधित समस्याओं में उपयोगी होता है। इसे मध में मिलाकर खाने से राहत मिलती है।

त्वचा की समस्याओं में: इसके फूलों का पेस्ट बनाकर त्वचा पर लगाने से चर्म रोगों और इन्फेक्शन में राहत मिलती है।

बुखार में: इसके पत्ते और फूलों को पानी में उबालकर पीने से बुखार में आराम होता है।

पेट की समस्याओं में: बेशर्म के फूलों का चूर्ण पेट की उपस्थिति और अन्य पाचन संबंधित समस्याओं में फायदेमंद होता है।

अन्य फायदे: इस पौधे का उपयोग व्रण और कटावत की चिकित्सा में भी होता है। इसके अलावा, यह रक्त की सफाई में भी सहायक है।

हालांकि, बेशर्म के फूलों का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए क्योंकि इसका अधिक या गलत तरीके से उपयोग कुछ दुष्प्रभाव भी पैदा कर सकता है। इसलिए, सतर्क रहें और सेहत का ध्यान रखें।

बेशरम का वैज्ञानिक नाम (Scientific name of Shameplant)

बेशर्म, जो आमतौर पर “Shameplant” के नाम से भी जाना जाता है, एक अद्वितीय पौधा है जो छूने पर अपनी पत्तियाँ बंद कर लेता है। इस विशेषता के कारण इसे ‘Shameplant‘ कहा जाता है, जिसका अर्थ है ‘शरम से लुढ़कनेवाला पौधा’।

इस अद्वितीय पौधे का वैज्ञानिक नाम “Mimosa pudica” है। ‘Mimosa‘ शब्द ग्रीक शब्द ‘मिमो’ से लिया गया है जिसका अर्थ है “नकल करनेवाला” और ‘pudica‘ लैटिन भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ है “शरमीला”।

अब आप समझ सकते हैं कि इस पौधे का वैज्ञानिक नाम उसकी इस अद्वितीय विशेषता को दर्शाता है, जब इसे छूआ जाता है, यह अपनी पत्तियों को बंद कर देता है। इसलिए, इसे ‘शरमीला’ पौधा भी कहा जाता है।

अगर आपको इस संबंध में और जानकारी चाहिए, तो हमारे ब्लॉग पर “कुबेराक्षी का पौधा” पर लेख भी है, जिसे आप पढ़ सकते हैं।

बेशर्म का पौधा घर पर कैसे लगाएं (How to plant Shameplant at home)

How to plant Shameplant at home)

बेशर्म, जिसे वैज्ञानिक रूप में ‘Mimosa pudica‘ कहा जाता है, एक अद्वितीय पौधा है जो अपनी पत्तियाँ छूने पर तुरंत बंद कर देता है। यह अद्वितीयता की वजह से यह पौधा बच्चों और बड़ों दोनों में लोकप्रिय है। आइए जानें कैसे आप इसे अपने घर पर लगा सकते हैं:

बीज का चयन: आप बेशर्म के पौधे के बीज को किसी भी पौधे की दुकान से प्राप्त कर सकते हैं।

मिट्टी की तैयारी: बेशर्म पौधे को अच्छी ड्रेनेज वाली मिट्टी चाहिए। इसके लिए आप बालू और केचुआ खाद मिलाकर मिट्टी को हल्का बना सकते हैं।

गमले की चुनाव: गमला चुनते समय ध्यान दें कि इसमें अच्छी तरह से पानी निकल सके।

बीज बोना: बीजों को गमले में लगाने से पहले उन्हें एक रात पानी में भिगोकर रखें। इससे बीज जल्दी अंकुरित होते हैं।

सिंचाई: पौधा लगाने के बाद अच्छी तरह से पानी दें। फिर जब मिट्टी सूख जाए, तब पानी दें।

धूप और छाया: इस पौधे को प्रतिदिन कम से कम 4 घंटे की प्राकृतिक धूप चाहिए। लेकिन अधिक धूप से बचाव करें।

उर्वरक और कीटनाशक: अगर पौधे पर कोई कीट दिखे, तो तुरंत कीटनाशक उपयोग करें। हर महीने एक बार उर्वरक भी दें।

अगर आप इस प्रक्रिया का पालन करते हैं, तो आपका बेशर्म पौधा अच्छे से बढ़ेगा और जल्दी फूल भी देगा। और जानकारी के लिए, हमारे ब्लॉग पर “कुबेराक्षी का पौधा” पर भी एक लेख है। आप वहाँ पर जाकर पढ़ सकते हैं।

बेशर्म के पौधे के बारे में रोचक तथ्य (Interesting facts about the Shameplant)

Interesting facts about the Shameplant

छूने पर प्रतिक्रिया: बेशर्म का पौधा अपनी पत्तियों को छूने पर तुरंत बंद कर देता है। यह एक प्राकृतिक प्रतिस्थापन प्रतिक्रिया है जो जीवन के खतरे से बचाने के लिए होती है।

वैज्ञानिक नाम: इस पौधे का वैज्ञानिक नाम ‘Mimosa pudica’ है। ‘Pudica‘ लैटिन भाषा में ‘शरमीला’ का अर्थ होता है, जो इस पौधे की विशेषता को दर्शाता है।

रात में भी सोता है: बेशर्म पौधा रात में अपनी पत्तियों को बंद कर देता है, जैसे कि वह सो रहा हो।

औषधीय गुण: इस पौधे के औषधीय गुण भी होते हैं। इसका उपयोग कई देशों में चोट, जलन और अन्य त्वचा संक्रमण के उपचार में किया जाता है।

वैज्ञानिक अध्ययन: बेशर्म पौधे पर हुए अध्ययनों से पता चला है कि यह प्रतिक्रिया अधिकतम 10 सेकंड में होती है।

पानी की कमी: यदि इस पौधे को पानी की जरूरत होती है, तो वह अपनी पत्तियों को ढीला कर देता है।

प्रदूषण से प्रभावित: यह पौधा वायु प्रदूषण से आसानी से प्रभावित होता है, और उसकी विशेष प्रतिक्रिया धीरे-धीरे कम हो जाती है।

लोकप्रिय बालकृदी पौधा: बच्चों को इस पौधे में खास रुचि होती है क्योंकि वे इसकी पत्तियों को छूकर देखते हैं कि कैसे वह बंद हो जाती है।

जलवायु: बेशर्म पौधा उमस और अधिक नमी वाले इलाकों में अधिक अच्छा बढ़ता है।

जीवनकाल: यदि इसे अच्छे से देखभाल किया जाए, तो यह पौधा कई साल तक जिंदा रह सकता है।

ये थे कुछ रोचक और अद्भुत तथ्य बेशर्म पौधे के बारे में। इस पौधे की अनूठी प्रतिक्रिया और इसके अन्य गुण इसे अन्य पौधों से अलग बनाते हैं।

घाव ठीक करने में मददगार उपाय (Helpful remedies to heal wounds)

घाव हो जाने पर हम तुरंत डॉक्टर की ओर नहीं दौड़ते हैं, बल्कि घरेलू उपाय अपनाते हैं। आइए जानते हैं कुछ आसान और प्राकृतिक उपाय, जो घाव ठीक करने में मददगार होते हैं:

हल्दी: हल्दी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं। घाव पर हल्दी का पाउडर लगाने से घाव जल्दी ठीक होता है और संक्रमण से भी बचाव होता है।

अलोवेरा: अलोवेरा गेल में ठंडक और शीतलता होती है। घाव या जलन पर अलोवेरा गेल लगाने से अधिक लाभ होता है।

नमक पानी: घाव को ठीक करने के लिए नमक पानी से धोना भी एक अच्छा तरीका है। नमक बैक्टीरिया और कीटाणु को मारता है।

तुलसी: तुलसी के पत्तों का पेस्ट बनाकर घाव पर लगाने से घाव जल्दी भरता है और संक्रमण से भी बचाव होता है।

शहद: शहद में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो घाव को जल्दी भरने में मदद करते हैं। घाव पर शहद लगाने से घाव जल्दी ठीक होता है।

ये थे कुछ घरेलू उपाय जो घाव को ठीक करने में मदद करते हैं। हालांकि, अगर घाव बड़ा है या संक्रमित हो रहा है, तो डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए।

जहर को कम करता है (reduces poison)

जहर जब हमारे शरीर में पहुंचता है, तो वह असहजता, सूजन और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। लेकिन कुछ प्राकृतिक उपाय जहर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। हल्दी, जिसे एक प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लैमेटरी माना जाता है, जहर के प्रभाव को कम कर सकता है। यह सूजन और दर्द को शांत करने में मदद करता है।

नींबू का रस भी जहरीले प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें एसिडिक गुण होते हैं जो जहर को नष्ट कर सकते हैं।तुलसी पत्तियों में ऐंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो जहर के प्रभाव को नियंत्रित कर सकते हैं। ये पत्तियां जहर को नष्ट करने में मदद करती हैं और शरीर को स्वस्थ रखने में सहायक होती हैं।

इस प्रकार, कुछ प्राकृतिक उपाय जहरीले प्रभाव को कम करने में मदद कर सकते हैं और हमें स्वस्थ रख सकते हैं। फिर भी, यदि आपको लगता है कि आपके पास गंभीर प्रकार का जहर है, तो तुरंत चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

चर्म रोग के लिए फायदेमंद (beneficial for skin diseases)

beneficial for skin diseases

चर्म, यानी हमारी त्वचा, हमारे शरीर का सबसे बड़ा अंग है और यह हमारे शरीर को बाहरी कीटाणुओं और प्रदूषण से सुरक्षित रखता है। लेकिन, कभी-कभी चर्म पर राशि या अन्य समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं, जिसे हम चर्म रोग कहते हैं।

वनस्पतिक और प्राकृतिक उपाय चर्म रोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होते हैं। जैसे, नीम के पत्ते और हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जो त्वचा के राशियों और संक्रमण को दूर करने में मदद करते हैं। आलोवेरा जलन और खुजली में आराम पहुंचाता है और त्वचा को मुलायम बनाए रखता है।

चर्म रोगों से बचाव के लिए सही आहार और पानी की प्रचुर मात्रा में सेवन करना भी जरूरी है। इसके साथ ही, नियमित त्वचा की सफाई और अच्छे चर्म देखभाल उत्पादों का उपयोग करना चाहिए।

आजकल बाजार में अनेक प्राकृतिक तत्वों से बने चर्म देखभाल उत्पाद उपलब्ध हैं जो चर्म रोगों के लिए फायदेमंद हैं। इन्हें अपने जीवन में शामिल करके हम अपनी त्वचा को स्वस्थ और निखरी हुई रख सकते हैं।

निष्कर्ष

“बेशर्म का पौधा” प्रकृति की एक अद्भुत देन है, जिसमें छूने पर पत्तियों का सिकुड़ जाना इसकी विशेषता है। इस पौधे के औषधीय गुण भी अनेक होते हैं, जिससे हमें अनेक स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह पौधा न सिर्फ हमारे बाग़ में सुंदरता बढ़ाता है, बल्कि हमें प्रकृति और जीवन के अद्वितीय पहलुओं से भी परिचित करवाता है।

अगर आपको पौधों और फूलों के बारे में और जानकारी चाहिए, तो हमारे अन्य लेख “150 flower name” भी पढ़ सकते हैं। इसमें विभिन्न प्रकार के फूलों के नाम और उनकी जानकारी दी गई है। अंततः, हम कह सकते हैं कि प्रकृति का हर कोना हमें कुछ ना कुछ सिखाता है, बस जरूरत है उसे समझने और महसूस करने की।

FAQ’s

बेशर्म का दूसरा नाम क्या है?

बेशर्म का पौधा “Mimosa pudica” या “Touch-Me-Not” के नाम से भी जाना जाता है।

बेशर्म के पत्ते कैसे होते हैं?

बेशर्म के पत्ते छूने पर सिकुड़ जाते हैं और फिर धीरे-धीरे खुलते हैं।

बेशर्म का पौधा कैसे सिंचे?

इसे सामान्य तरह से सिंचा जा सकता है, परन्तु अधिक पानी से बचाव करें।

क्या बेशर्म के पौधे में फूल भी होते हैं?

हाँ, इस पौधे में छोटे फूल होते हैं।

बेशर्म का पौधा कैसे काम करता है?

बेशर्म का पौधा छूने पर अपनी पत्तियों को सिकुड़ लेता है, जिससे यह अपनी सुरक्षा करता है।

बेशर्म का पौधा कहाँ पाया जाता है?

यह पौधा समुद्र स्तर से उच्च इलाकों में पाया जाता है।

क्या इस पौधे का औषधीय उपयोग होता है?

हाँ, इस पौधे का उपयोग अनेक औषधीय गुणों के लिए किया जाता है।

बेशर्म का पौधा घर में लगाने से कौन-कौन से फायदे होते हैं?

इसकी पत्तियों की अद्वितीय प्रतिक्रिया देखना रोचक होता है और यह पारिस्थितिकी तंत्र में भी मददगार होता है।

क्या बेशर्म पौधा ज्यादा धूप पसंद करता है?

नहीं, यह सीधी धूप से बचाव करने का पसंद करता है।

कितनी आयु का होता है बेशर्म का पौधा?

इसकी सामान्य आयु 1 से 2 वर्ष होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *